Sunday, May 16, 2010

हम दुनिया के धनि व्यक्ति बिल गेट्स को भारत लाकर उन्हें देश की गरीबी दिखाकर आखिर क्या साबित करना चाहते हैं? क्या हम आज भी उनकी मानसिकता को व

हम दुनिया के धनि व्यक्ति बिल गेट्स को भारत लाकर उन्हें देश की गरीबी दिखाकर आखिर क्या साबित करना चाहते हैं?
क्या हम आज भी उनकी मानसिकता को वाही बनांये रखना चाहते हैं जो वे सदियों से अपने मन में पाले हुए हैं की भारत तमाशबीनों का देश है जहाँ के लोग साँपों का खेल दिखाकर और मजदूरी करके ही अपनी जीवन यापन करते हैं ? या क्या वे इस गरीबी को दिखाकर ये साबित करना चाहते हैं की हमने आज तक कोई भी तरक्की नहीं किया है और सायद आप के ही भरोसे हैं ?
मेरा प्रश्न है बिल गेट्स को भारत लाकर गरीबी के दर्शन करवाने वालों से की क्या उन्हें भारत की समृद्धशाली परंपरा और ऐतिहासिक महत्व के अन्य जगह नहीं दीखते क्या भारत में गौरवशाली संस्कार और संस्कृति को अपने में समेटे हुए धरोहर भी नजर नहीं आते ?
मै निवेदन करता हूँ देश के कर्णधारों से की वे ऐसी गिरी हुई हरकत न करें जिससे भारत भूमि के अपमान का कोई भी मौका विदेशियों को मिले भविष्य में ऐसी घटना न हो इसके लिए प्रशासन को भी अपना ध्यान आक्रिस्ठ करना चाहिए.......

6 comments:

  1. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  2. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  3. महोदय ...मैं आपके विचारो का समर्थन करता हूँ ...आपका कहना सही है ....काश यह बात सभी तक पहुंचे

    ReplyDelete
  4. वंदे मातरम।
    चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है। हिंदी ब्लागिंग को आप और ऊंचाई तक पहुंचाएं, यही कामना है।
    http://gharkibaaten.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  6. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा या प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    ReplyDelete